तीन औरत चुदने के लिए जिगोलो बुलाई फिर तीनो के साथ क्या हुआ पढ़िए

| By admin | Filed in: Hindi Stories.
Gigolo Sex Stories, जिगोलो Sex Stories Antarvasna, जिगोलो को घर पर इनवाइट किया, मैं रेखा और मेरी दो सहेली सुरभि और कामिनी, हम तीनो ही नोएडा जो की दिल्ली के पास है वही एक अपार्टमेंट में रहती हूँ। मैं तलाकशुदा हूँ मेरी एक बेटी है जो की हॉस्टल में रहती है। एक मेरी सहेली जिसका नाम सुरभि है उनके पति की डेथ हो गयी है दो साल पहले ही। और एक सहेली कामिनी जिसका पति के साथ झगड़ा चलता है इसलिए वो अकेली ही रहती है।

हम तीनो सहेली की उम्र चालीस साल से निचे ही है। हम तीनो ही हॉट और सेक्सी हैं। अपने तरीके से अपनी ज़िंदगी जीते है। हम तीनो को ना कोई रोकने वाला ना टोकने वाला है। हम तीनो की ज़िंदगी बहुत ही अच्छी है। बस सेक्स के अलावा पर अब ऐसी बात नहीं है।

पैसे देकर तो कुछ भी खरीदा जा सकता है इसलिए अब तीनो मिलकर जिगोलो बुलाते है यानी की लड़का सेक्स वर्कर, जैसी रंडी या काल गर्ल मिलती है वैसे ही शहर में जिगोलो मिल जाता है जहाँ पर आमिर घर की औरतें या जिसका पति नहीं है या जिसका पति चुदाई में खुश नहीं करता है। वो सेक्स पैसे देकर करवाती है।

तो दोस्तों अब आपको पता चल गया है की हम तीनो कौन हैं। और सेक्स की भूख को हम तीनो कैसे मिटाते हैं। अब मैं सीधे कहानी पर आती है। ये मेरी पहली कहानी है नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर। मैं भी यहाँ रोजाना आकर हॉट कहानियां पढ़ती हूँ इसलिए आपके लिए भी लिख रही हूँ।

एक दिन की बात है हम तीनो ही मेरे ही फ्लैट पर बैठे थे। तो अचानक ही पार्टी करने का मूड हुआ। क्यों की कोरोना के चलते सारा रूटीन ख़राब हो गया और ना हम तीनो मॉल जा सकते ना एन्जॉय कर सकते। इसलिए हम तीनो ने पार्टी करने की सोची।

तो कामिनी बोली क्यों ना आज रात की पार्टी की जाये। तो हम तीनो ही बाहर जाकर शराब भी ले आये और खाने पीने का सामान। पर सुरभि बोली क्यों ना हमलोग एक लड़के को बुला लेते हैं पार्टी का मजा दुगुना हो जायेगा। ऐसे भी मेरी चूत बार बार गीली हो जाती है। मैं सेक्स करना चाहती हूँ। मैं सेक्स के बिना नहीं रही सकती हूँ। अगर हम तीनो ही मिलकर जिगोलो बुला लेते है तो हम तीनो रात भर उससे चुदवायेंगे और पार्टी करेंगे और शराब पिएंगे।

हम तीनो ने शाम के करीब साथ बजे एक जिगोलो की फ़ोन किया। वो पहले आने को राजी नहीं था वो कह रहा था की मैं दिल्ली के द्वारका में रहता हूँ और नोएडा दूर हो जाएगा। और रात को आपलोग मुझे छोड़ देंगे तो आने में दिक्कत हो जाएगी। तो हम तीनो ने उससे कहा रात को नहीं छोड़ेंगे तुम सुबह जाना। फिर वो आने को राजी हो गया। पूरी रात के लिए चालीस हजार में तय किया।

वो नौ बजे के करीब फ्लैट पर आ गया उसका नाम आकाश था। हॉट गोरा लंबा बॉडी बिल्डर था। कान में सोने के बाली और हाथ में राडो का घडी पहना था। बहुत ही हॉट लग रहा था। एक एक चीज वो ब्रांडेड पहना था। टैटू हाथ पर गर्दन पर बनवा रखा था तो और भी हॉट लग रहा था।

हम तीनो हॉट और सेक्सी कपडे पहने थे। अब हम चारो खाना खाये और फिर दारु पिए। ओह्ह्ह्ह दारु पीते पीते ही हम तीनो ने उसके कपडे उतार दिये और फिर अपने अपने कपडे भी उतार दिए। सोफे पर ही उसके चूमने लगे। कोई सीने पर लिस्टिक लगा दी कोई गाल पर। कोई पीठ पर कोई चूतड़ पर। ऊह्ह्ह्ह था ही इतना हॉट की क्या बताऊँ आपको।

फिर हम तीनो उसके लंड को चूसने लगे बारी बारी से। एकदम गोरा और नौ इंच का लंड। मजा आ गया था देखते ही। हम तीनो की चूत गीली हो गयी थी। और हम तीनो ही उसके जिस्म से खेल रहे थे। बिच बिच में दारु की पेग लेते और झूमते हुए बालों को लहराते हुए उसके जिस्म को जीभ से चाटते।

वो भी कभी मेरी चूचियों को पीटा कभी कामिनी के तो कभी सुरभि के। तीनो के गांड में ऊँगली डालते तो कभी चूत चाटता। तो कभी किस करता। ओह्ह्ह्हह क्या बताऊँ दोस्तों ग्रुप में सेक्स करना सबसे बढ़िया लगता है। फिर क्या था। हम तीनो ही वाइल्ड हो गए थे। कितना देर तक रोक पाते अपनी चुत की गर्मी को रहा नहीं गया। एक तो ऊपर से दारु का नशा और बहुत दिन बाद चुदाई।

हम तीनो ऐसे टूट परदे उसपर की वो भी दंग रह गया। अब वो कह रहा था धीरे धीरे प्लीज क्यों की हम तीनो कभी चूमते कभी अपनी अपनी चूचियों को उसके मुँह पर रगड़े कभी निप्पल उसके गांड में सटाते। हम दिनों उसको बैडरूम में ले गए। और फिर बारी बारी से चुदवाने लगे। वो भी अपना मोटा लंड हम तीनो के चूत में बारी बारी से पेलने लगा। कभी आगे से कभी पीछे से।

कभी गांड में कभी मुँह में। एक के चुत से निकालता तो दूर के गांड में लंड घुसा देता। कभी गांड से निकालता तो मुँह में दे देता। हम तीनो जोर जोर से चुदवाने लगे। वो भी जोर जोर से हम तीनो को चोदने लगा। एक एक करके वो हम तीनो को शांत कर दिया। फिर भी उसका नहीं झडा।

रात को हम मैं उसकी के साथ सो गयी। कामिनी सोफे पर और तीसरी हॉल रूम में। मैं रात को दो बार और भी चुदी। पर मेरी दोनों सहेली सुबह होते ही फिर से गरम हो गयी और फिर से चुदवाने लगी। वो जोर जोर से आवाज निकाल रही थी और चोदो और चोदो। मैं तो शांत हो गयी थी क्यों की मेरी चूत सूज गई थी। बहुत दिन बाद लंड अंदर गया था वो भी मोटा नौ इंच का।

इस तरह से हम तीनो को उस जिगोलो ने शांत किया और हम तीनो की वासना की आग को बुझाया। बहुत मजा आया चुद कर ग्रुप में वो भी जिगोलो के साथ। मैं दूसरी कहानी जल्द ही नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर लिखने वाली हूँ तब तक के लिए धन्यवाद.

Source:

নতুন ভিডিও গল্প!


Tags: , , , ,

Comments