Xxx House Wife Chudai Kahani

February 22, 2021 | By admin | Filed in: Hindi Stories.

[Dear reader, a good reader is a good writer. If you have any such experience, be sure to share it with everyone. This site is open to everyone to write. Click here to post your life story or experience.]

Xxx हाउस वाइफ चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने जवान यार को अपने घर बुला कर अपनी चूत को चुदवा कर पूरा मजा लिया जिन्दगी का!

दोस्तो, मैं सिमरन एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी के दूसरे भाग में आपका स्वागत करती हूँ.

इस Xxx हाउस वाइफ चुदाई कहानी के पहले भाग
खुल कर चुत चुदाई की तमन्ना
में आपने पढ़ा कि कैसे मैं और अमन मेरे घर पर मिले और हमारे बीच सेक्स की प्रक्रिया शुरू हो गई.

अब आगे की Xxx हाउस वाइफ चुदाई कहानी:

यह कहानी सुनकर मजा लीजिये.

अमन ने मेरे जिस्म के साथ खेलना फिर से शुरू कर दिया था. वो मेरे मम्मों को कुछ इस तरह से चूसने की प्रक्रिया अपना रहा था, जिससे मुझे अद्भुत सनसनी होने लगी थी.

उसकी इस कला से मुझे एक बात समझ आ गई थी, जो आप अपनी महिला साथी के साथ करके देखेंगे, तो उसको भी बहुत मजा आएगा जैसे अमन ने मुझे दिया था.

सच कहूँ तो आज तक मम्मों को पिलाने में मुझे इतना मजा कभी नहीं आया था. जब भी मैं अमन का मम्मों का पीना याद करती हूं, मेरी पैंटी अपने आप गीली हो जाती है.

मैं आपको बताती हूँ कि वो कैसे हुआ था.

अमन ने प्यार से मेरे दोनों हाथों को पकड़ कर मेरे पीछे ले जाकर कसके पकड़ लिए. फिर मेरे मम्मों को अपने मुँह में लेकर पीना शुरू किया.

वह सिर्फ चूची चूसने तक नहीं रुका, वो मेरे मम्मों को पीते हुए मेरे दोनों निप्पलों को बारी बारी से अपने दांतों से खींच भी रहा था.
मतलब वो मेरे दोनों को मम्मों खींच खींच कर पी रहा था.

जिससे मैं और ज्यादा गर्म हो गई. उसकी इस कामुक क्रिया से मैं इतनी अधिक उत्तेजित हो गई थी कि मेरी चुत ने पानी छोड़ दिया था.

अमन मेरे मम्मों को खींच खींच कर पी रहा था, जिससे मैं इतनी ज्यादा गर्म हुई कि मेरी चुत ने पानी छोड़ दिया.

मेरे झड़ जाने के बाद भी अमन मेरे मम्मों को छोड़ने का नाम नहीं ले रहा था.
जब उसने काफी देर तक मेरे मम्मों की चुसाई की तो मुझे लगा कि अमन पक्के में इस बार कुछ नया सोच कर आया था.
वो मेरे दूधिया मम्मों को पीते चूसते हुए मुझे दुबारा से गर्म करने लगा था.

मैं एक बार फिर से चुदासी हो उठी थी और अमन को अपनी चूचियां पिलाने का मजा लेने लगी थी.

तभी अमन ने अचानक से मुझे छोड़ दिया और उठ कर किचन में चला गया.

मैं मदहोश थी … और अमन का मुझे इस तरह बीच राह में छोड़ जाने से बहुत गुस्सा आ गया था. मैं चाहती थी कि अमन मेरे दशहरी आमों को चूसता ही रहे.
मगर वो मुझे गर्म करके हट गया था.

फिर अमन कमरे में आया तो उसके हाथ में एक शहद की बोतल थी जो वो किचन से उठा लाया था.
मैं अचरज से उसकी तरफ देखने लगी कि अब बंदा मेरे साथ क्या नया करने वाला है.

अमन ने मुझे देख कर लंड हिलाया और आंख दबा दी.
मैं भी एक अनजाने सुख की लालसा में उसे देखने लगी.

अमन ने बोतल खोल कर उसमें उसने अपनी दो उंगलियां डुबोईं और शहद को मेरे पूरे जिस्म पर फेरने लगा.
उसने मेरे पूरे जिस्म पर ऊपर से नीचे तक एक लाइन में शहद लगाते हुए जिस्म को मीठा कर दिया था. उसने मेरे जिस्म पर शहद से लाइन बनाई थी उसे देखने लगा.

मैं लेटी हुई थी.
अमन ने मेरे मुँह के करीब आकर अपनी शहद से डूबी उंगली को मेरे मुँह में डाल दी.
मैं शहद की मिठास का मजा लेने लगी और कामातुर भाव से अपने साजन को देखने लगी.

अब अमन ने जहां जहां मेरे बदन पर शहद लगाया था, वहां वहां वो अपने होंठ लगा कर मेरे पूरे बदन को चूमने लगा, चूसने लगा.
इससे मैं और भी पागल हो गई.

मेरे पूरे बदन का शहद चूसने के बाद अमन मेरी चुत पर आ गया.
मेरी पैंटी, जो अमन की वजह से गीली हुई पड़ी थी … उसको किस किया और अपने दांतों से पकड़ कर खींच कर मेरे जिस्म से अलग करने लगा.

कुछ ही देर में अमन ने मेरी पैंटी उतार दी.

अब जैसे ही मेरी पैंटी उतरी, अमन की मदमस्त नजरें मेरी चुत के बालों पर दिल के आकार पर पड़ीं.

मैं भी अपनी इस सजावटी चुत का मुजाहिरा करते हुए अमन की प्रतिक्रिया को देखने के लिए उत्सुक थी कि मेरा प्यार क्या रिएक्ट करता है.
चुत के बालों में हार्टशेप में उसका नाम लिखा हुआ था.

अमन ने मदहोश निगाहों से उस हार्टशेप को देखा और एक गहरा चुम्बन कर दिया.

मैंने उसे बालों में हाथ फेरते हुए कहा- तोहफा पसंद आया मेरी जान?
वो मेरी आंखों में आंखें डालकर बोला- हां जान … ऐसे तोहफे के लिए थैंक्यू!

मैंने उसका मुँह अपनी चुत पर दबा दिया और वो मेरी चुत को चाटने लगा.

कुछ ही देर में हम दोनों 69 की पोजिशन में आ गए और मैंने अमन का अंडरवियर निकाल दिया.
हम दोनों ने एक दूसरे के लंड चुत पर चुम्मी ली और मैंने शहद की बोतल उठा ली.
अमन के लंड पर मैंने शहद लगाया तो अमन ने भी मेरी चुत पर शहद लगा दिया.

अब हम दोनों ने लंड चुत की चुसाई का खेल शुरू कर दिया.
बहुत देर तक हम दोनों ने लंड और चुत को चूसने का मजा लिया.

हमारी चुसाई इतनी अधिक हुई थी कि हम दोनों ही डिस्चार्ज हो गए थे और हम दोनों ने ही अपना अपना पानी एक दूसरे को पिला दिया था.

उसने मेरी चुत को और मैंने उसके लंड को अच्छे से चाट कर साफ कर दिया था.

फिर हम दोनों एक दूसरे को बांहों में लेकर किस करने लगे.

अमन अपना हाथ नीचे ले जाकर मेरी चूत मसल रहा था और मैं अमन का लंड हिला रही थी.

ऐसे ही दस मिनट में अमन का 8 इंच का लंड खड़ा हो गया.

अब मैंने देर न करते हुए अमन के लिए अपने दोनों पैर खोल दिए और अमन मुझे किस करते हुए मेरे पैरों के बीच आ गया.
वो अपना लंड मेरी चुत के ऊपर रगड़ने लगा और किस करने लगा.

मैं अब लंड चुत में लेने की आस में और भी ज्यादा तड़पने लगी थी. मैं अमन से बहुत मिन्नतें कर रही थी मगर वो मेरी चुत की फांकों में लंड का सुपारा घिसता और जैसे ही मैं गांड उठा कर लंड गप करने की कोशिश करती तभी वो अपनी कमर ऊपर कर लेता, जिससे मेरी चुत में लंड नहीं घुस पा रहा था.

मैंने उसकी आंखों में गुस्से से देखा और धीरे से कहा- चोदो न … क्यों तरसा रहे हो!

मेरी इस बात को सुनते ही अमन ने मुझे कसके पकड़ा और लंड मेरी चुत के मुहाने रख कर जोरदार शॉट मार दिया.

Simran Ki Chut Chudai
Simran Ki Chut Chudai

उसके इस तीव्र प्रहार से एक ही बार में उसका पूरा लंड मेरी चुत में उतर गया था. उसका ये तेज प्रहार मैं सह नहीं पाई और मेरे मुँह से जोरदार चीख निकल गई- उम्मम्म मांआआ मर गईईई … थोड़ा धीरे … अमन आह.

पर अमन बहुत पहुंचा हुआ खिलाड़ी था. आज उसको मेरे साथ और ज्यादा रफ सेक्स करना था … इसलिए उसने मेरी चुत से पूरा लंड बाहर निकाल लिया.
उसका यूं लंड चुत से बाहर निकाल लेना मुझे और भी ज्यादा बुरा लगा.

अमन ने एक तौलिये से अपना लंड साफ किया और मेरी चुत जो गीली हो गई थी, उसे भी उसने तौलिये से साफ करके सूखा कर दिया.

फिर एक पल की भी देर न करते हुए अमन ने जबरदस्ती अपना लंड चुत में जड़ तक उतार दिया. मुझे फिर से अपनी चुत में बेहद दर्द हुआ.

दोस्तो, सूखी हुई गर्म चुत में सूखा हुआ सख्त लंड जब घुसता है, तो जो रगड़ होती है … वो बेहद दर्दनाक होती है.
इस तरह के सेक्स में उसे भी और मुझे भी ये नया अनुभव हुआ था कि इस मीठे दर्द को क्या नाम दिया जाए.

शायद वात्सायन ने भी इस तरह के सेक्स का वर्णन अपनी पुस्तक कामसूत्र में नहीं किया होगा.

हम दोनों को ही ऐसा लगा था जैसे हम दोनों ही जिंदगी में पहली बार चुदाई कर रहे हों.
क्योंकि जब सूखी चुत में सूखा लंड उतरता है, तो चुत लंड नहीं ले पाती है और लंड को भी चुत में घुसने में तकलीफ होती है.
आज हम दोनों को इस जंगली चुदाई में एक नया अनुभव हुआ था.

मेरी यही राय से सेक्स करते वक़्त आप सभी ये क्रिया जरूर आजमाएं कि जब भी लंड और चुत गीली हो जाएं, तो पहले उसे तौलिये से सूखा कीजिए … फिर चुदाई कीजिए.
आप यकीन मानिए मीठे मीठे दर्द के साथ जो चुदाई होगी, उसे आप कभी नहीं भूलेंगे.

अमन ने मेरी सूखी चुत में जब अपना लंड उतारा तो मेरे साथ उसकी भी चीख निकल गई. हम दोनों इस मीठे दर्द को सहन करते हुए धीरे धीरे चुदाई करने लगे.
कोई दो मिनट बाद ही चुत ने रस छोड़ दिया और लंड फिर से ताबड़तोड़ चुदाई में लग गया.

कोई पंद्रह मिनट तक भीषण चुदाई करने के बाद अमन ने मुझे घोड़ी बना दिया. उसने फिर से तौलिये से लंड और चुत को साफ कर दिया.
फिर से पीछे से मेरी चुत में लंड उतारा और इस बार भी मीठे दर्द के साथ मैंने अमन का लंड अपने चुत में ले लिया.

कुछ मिनट तक ऐसे ही चुदाई के बाद मैं और अमन एक साथ डिस्चार्ज हो गए और बहुत देर तक ऐसे ही पड़े रहे.

थोड़ी देर बाद हम दोनों उठे और फ्रेश हुए.

मैंने अमन के लिए खाना गर्म किया … तब तक अमन का लंड फिर से खड़ा हो गया.

अमन ने एक प्लेट में खाना लिया और मुझे अपने लंड पर बिठा लिया.
इस पोजीशन में हम दोनों ने एक दूसरे को खाना खिलाया.

मैं मेरे दोनों जगह के होंठों से खाना खा रही थी.
मतलब नीचे वाले होंठों में अपन का लंड फंसा था.
मेरी चुत अमन का लंड खा रही थी और ऊपर में अमन के हाथों से खाना भी खा रही थी.
मैं अमन को किस भी कर रही थी.

कुछ ही देर में हमारा खाना खत्म हुआ. तो अमन ने लंड को मेरी चुत से निकाले बिना ही अपनी गोद में उठा लिया.

वो मुझे बाथरूम में लेकर गया और वहां उसने शॉवर चालू कर दिया. अब हम दोनों ने शॉवर के नीचे चुदाई शुरू कर दी.
हमारा ये दूसरा राउंड भी लंबा चला, जिसमें मैं और अमन बहुत थक गए थे.

फिर कमरे में बेड पर आकर कब हमारी आंख लग गई, हमें पता ही नहीं चला.

इस 26 जनवरी की रात को अमन ने मुझे 5 बार जम कर चोदा जिसमें मैंने भी उसका पूरा साथ दिया.
जब हम सुबह उठे तो ग्यारह बज चुके थे. मेरे पति का फोन आ रहा था.

मैंने फोन उठाया और उनसे बात की. मेरे बेटे ने भी मुझसे बात की.
मेरे पति ने बताया कि उन्हें आने में शायद कुछ दिन और लग सकते हैं.
मैंने ओके कह कर फोन रख दिया और अमन से लिपट कर उसे जगाने लगी.

दोस्तो, ये थी मेरी और अमन की चुदाई की कहानी … आप सभी को मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी?
प्लीज मुझे कमेंट करके या मेल करके जरूर बताइए. मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा.

तब तक के लिए मुझे इजाजत दीजिए. मैं जल्द ही मेरी अगली सेक्स कहानी पोस्ट करूंगी.
आप मेरी इस Xxx हाउस वाइफ चुदाई कहानी को अपना प्यार दीजिएगा.
[email protected]

प्रिय पाठक, एक अच्छा पाठक एक अच्छा लेखक होता है। यदि आपके पास ऐसा कोई अनुभव है, तो इसे सभी के साथ साझा करना सुनिश्चित करें। यह साइट लिखने के लिए सभी के लिए खुली है। अपनी जीवन कहानी या अनुभव पोस्ट करने के लिए यहां क्लिक करें।

Tags: , , , , , , , , , ,

Comments