College Ki Sexy Girlfriend – प्रेमिका के साथ कामुक हरकतें

April 7, 2021 | By admin | Filed in: Hindi Stories.
कॉलेज की सेक्सी गर्लफ्रेंड की कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी प्रेमिका की चुदाई करना चाहता था. लेकिन मेरी तमन्ना अधूरी रह जाती थी. अब मौका मिला तो बात कहां तक पहुंची, आप खुद जान लें!

दोस्तो, कैसे हैं आप? उम्मीद है कि मजे में ही होंगे।
मेरी पिछली कहानी
गर्लफ्रेंड की चुदाई की अधूरी तमन्ना
में यदि आपका रोमांच अधूरा रहने से दिल टूट गया हो तो उदास न हों क्योंकि मैं हाजिर हूं फिर एक नई कहानी लेकर … या यूं कहें कि गर्लफ्रेंड के साथ उसी रोमांच को फिर से पैदा करने की एक और कोशिश लेकर।

उम्मीद है कि पिछली कहानी आपको अच्छी लगी होगी और ये भी पसंद आयेगी।
तो अब देर किस बात की? चलिये कॉलेज की सेक्सी गर्लफ्रेंड की कहानी को शुरू करते हैं।

पिछली कहानी में अपने देखा कि किस तरह चाहकर भी मैं और मेरी गर्लफ्रेंड एक दूसरे के जिस्म के प्यासे रह गये.

वॉशरूम में चूमा चाटी के बाद हवस मिटाने की हमारी कोशिश अधूरी रह गयी. हम कुछ नहीं कर पाए थे लेकिन अभी बहुत कुछ होना बाकी था।

उस दिन के बाद काफी समय बीता.
हमारा मिलना भी कम हो गया था लेकिन वो समय भी जल्द ही आ गया जब हम दोबारा मिले।

उस दिन सुबह दस बजे के करीब उसका फ़ोन आया- चलो न घूमने चलते हैं?
मैंने कहा- ठीक है।

मैं झट से तैयार हुआ और निकल गया घर से उससे मिलने के लिए।

हम मार्किट में घूमे, शॉपिंग की, खाया-पीया और मस्ती-मजा कर रहे थे कि तभी उसका फ़ोन बज उठा.

उसने फोन उठाया तो दूसरी तरफ से उसकी मम्मी की आवाज थी।
उन्होंने उसे बोला- घर जा … सूट सिलकर आ गया है जो टेलर को दिया था, जाकर चेक कर … अगर कोई दिक्कत हो तो वापस ठीक होने को दे दे, हम अभी बाहर हैं और शाम को आते हुए लेट हो जाएंगे।

वो बोली- ठीक है मम्मी।
उसने फ़ोन रख दिया और मुझसे कहा- मम्मी ने काम के लिए बोला है तो करना पड़ेगा, तू भी चल रहा है साथ में?
मैंने कहा- मैं क्या करुंगा जाकर साथ? तू चली जा … मैं इंतज़ार कर लूंगा।

मगर नहीं … लड़कियों ने आज तक भला किसी की सुनी है क्या जो वो मेरी सुनती?
उसकी जिद पर मैं भी चलने के लिए मजबूर हो गया. मेरे पास दूसरा कोई चारा ही नहीं था।

हम उसके घर पहुँचे तो वहां पर कोई नहीं था। उसने दरवाजा खोला और हम अंदर आ गए। उसने लाइट जलाई, गर्मी थी और पंखा ऑन किया।
हम बेड पर बैठ गये और आराम करने लगे.
दोनों ही थक से गये थे गर्मी के कारण।

मैं पहली बार उसके घर गया था और बैठा बैठा चारों ओर नजर घुमाकर उसके घर को देख रहा था।
मैंने पानी के लिए कहा तो बोली कि फ्रिज से ले लो.

क्या करता दोस्तो, झुकना तो लड़कों को ही पड़ता है, लड़कों को ही सुननी पड़ती है.
मैंने फ्रिज से पानी निकाला और पीने लगा. फिर मैंने उसे भी पानी दिया।

अब जिस काम के लिए आये थे … तो वो ड्रेस निकालने लगी. अलमारी से उसने ड्रेस निकाल ली। उसको ट्राई भी करना था।
मुझे आदेशात्मक अंदाज में वो कमरे में बैठा कर दूसरे कमरे में चेंज करने चली गयी.

मैं जूते उतार कर बेड पर लेट गया जैसे कोई मरा हुआ मेंढक उल्टा पड़ा हो।
कुछ देर मुझे लेटे हुए हो गये थे।
“ओये, बता कैसा लग रहा है?” एक आवाज मेरे कानों में आई।

नीले कलर का सूट था जिस पर कढ़ाई की हुई थी। जालीदार चुन्नी उसने ऊपर ले रखी थी और सलवार के साथ मैं क्या बताऊँ … शब्द नही होंगे उस अनुभव को बताने के लिए।

वो सूट डालकर, कसम से इंतेहाई खूबसूरत लग रही थी। मैं उसे ही देख रहा था।
उसके चेहरे पर मुस्कराहट थी और आंखों में सवाल और मेरी प्रतिक्रिया का इंतजार भी।

उसका सूट गले से थोड़ा खुला सा था जिससे गला सफेद दूधिया रंग सा चमक रहा था, जिस पर एक तिल चार चांद माफिक लग रहा था।
गले से नीचे उसकी छाती/स्तनों पर ट्यूबलाइट पड़ रही थी. वो हिस्सा हल्का सा चमक रहा था.

लग रहा था जैसे उसकी खूबसूरती निखारने के लिए ही वो ट्यूबलाइट दीवार पर लगी हो।

मेरी सहेली के स्तन थोड़े उभरे हुए थे और सूट का हिस्सा थोड़ा टाइट सा था क्योंकि उस जगह खिंचाव होने से वो और खूबसूरती से शरीर को तराश रहा था।

थोड़ा नीचे कमर उसकी पतली सी थी और उसने अपना हाथ कमर पर रख लिया. आप जानते ही हैं कि जब कोई लड़की सूट डालकर कमर पर हाथ रखे और सवालात वाली निगाहों से देखे तो उस दृश्य की आप कल्पना कर सकते हैं।

मेरा तो ये सब देखते ही खड़ा हो गया था।
थोड़ा संभालते हुए उससे कहा- बहुत अच्छी लग रही है इसमें.
“सच बता?” उसने पूछा।

मैंने उसका हाथ पकड़ा और करीब ले आया; उसको पास खींच कर गले से लगाकर मैंने कहा- हां सच!
करीब एक मिनट तक ऐसे ही गले लगे रहने के बाद हम अलग हुए।

वो पीछे मुड़ने लगी कि एक बार फिर मैंने उसे बाजू से पकड़ा और अपनी तरफ खींचकर गले लगा लिया और गले के पास किस कर दिया।
किस करते हुए मैं अपने हाथ उसकी पीठ पर घुमा रहा था.

मैंने उसकी कमर को फिर कस कर पकड़ा और अपनी तरफ दबा कर घूम गया और उसे दीवार से लगा दिया। दीवार के साथ लगे हुए अब मैं उसके कंधे और गले पर किस कर रहा था.
साथ में मेरा हाथ उसकी पीठ पर घूम रहा था।

तभी मुझे एक शरारत सूझी. अपना हाथ घुमाते हुए मैं नीचे उसकी गांड पर ले गया और जोर से दबा दिया।
इस हरकत से वो झेंप गयी और मेरा हाथ वहां से हटाकर जोर से मुक्का मार दिया।

मैंने शरारती हंसी हंसते हुए उसे दोबारा गले लगा लिया और गाल पर पप्पी करते हुए सॉरी बोला। उसको गले लगाते हुए उसके मम्में मेरी छाती में दबे जा रहे थे जिससे नीचे मेरी पैंट में हलचल होने लगी।

इस बार मैंने गर्दन की दूसरी तरफ जाकर किस करना शुरू किया जिससे उसके शरीर में सुरसुरी सी हुई और उसने जोर से गले लगा मुझे अपने से लपेट लिया।

उसी अवस्था में मैंने अपने हाथ उसके कंधे पर रखे और उसके सूट व ब्रा स्ट्रिप को सरकाते हुए उसका कंधा मैंने नंगा कर दिया।
अब उसका सूट कंधे से उतर कर नीचे को सरका दिया जहाँ से उसके स्तन का कुछ ऊपरी भाग खुले में आ गया।

अब मैं गले से नीचे उसकी छाती पर आ गया और होंठ उसके स्तनों पर रख कर चूमने लगा। मेरी जीभ दोनों स्तनों के बीच की लकीर के अंदर बाहर हो रही थी।
वहां से उठकर फिर जीभ से स्तन से लेकर जबड़े के निचले हिस्से तक किस करता हुआ मैं ऊपर उठा।

मैंने उसकी ठोड़ी को हाथ से पकड़ा, एक नजर उसकी आँखों में देखा जो बंद थीं और होंठों पर होंठ रखकर उन सुर्ख लाल रसीले होंठों को चूस रहा था। कभी ऊपर वाले होंठ को तो कभी नीचे वाले पर।

इसी क्रम में हमारी जीभ भी एक दूसरे के मुंह में आ-जा रही थी। हम एक दूसरे को किस करने में डूबे हुए थे।
उसने अपने हाथ मेरे कंधे पर रखे और अपनी ओर को खींचने लगी जिससे हमारी किस और भी मजेदार बन गयी।

मैंने अपने हाथों को उसकी कमर पर फिराना जारी रखा और इसी दौरान मैं अपना हाथ उसके स्तनों पर ले गया और अंगूठे से उसे सहलाने लगा।
उसके निप्पल सख्त हो गए थे जिसका आसानी से अहसास किया जा सकता था।

मेरा हाथ उसके बगल से लेकर पूरे स्तनों के बाहरी हिस्से को छूता हुआ ब्रा के अंत तक जाता।
ये ठीक वैसे ही था जैसे कि कोई गेमिंग कंसोल पर दोनों हाथों से पकड़ बनाते हुए अंगूठे से भीतरी बटनों को छेड़ता है।

हम किस में डूबे हुए थे कि मुझे फिर एक शरारत सूझी.
मैं हाथों को पीठ पर ले जाकर और नीचे की ओर जाने लगा। उसकी गांड पर हाथ रखकर धीरे से सहलाने लगा।

उसके मस्त गोल नितंबों को सहलाने का अलग ही मजा आ रहा था। एक लम्हा रुककर गांड की लकीर पर हाथ फिराने के बहाने दोनों नितंबों को विपरीत दिशा की ओर झट से फैला दिया जिससे उसे दर्द हुआ और उसके मुंह से उम्म … म्म्म … सी निकली और उसी के साथ एक झटके में उसने मेरे हाथ वहां से हटा दिये।

हाथ हटाते ही उसने मेरे होंठो पर काट दिया।
अम्म … म्म्म … के अलावा मेरे मुंह से कुछ भी न निकल सका.
मैंने आंख खोलकर देखा तो उसने भी गुस्से वाली नजरों से आंख मारकर अपनी जीत का इशारा किया और बदला लेने का जश्न भी मना लिया।

मुझे उसकी इस हरकत पर प्यार आ गया. मैंने दायें हाथ से उसके बायें गाल को खींच दिया और दायें गाल पर किस कर दिया।
मैं उसके स्तनों को सहलाने-दबाने लगा. मुलायम स्तनों को दबाने में अलग ही मजा है।

एक कदम आगे बढ़ने के लिए मैं अपने हाथ को उसकी बगल में ले गया. उसकी दोनों बाजू ऊपर करके एक हाथ से पकड़ कर लॉक कर दी। दूसरे हाथ से उसका चेहरा पकड़ होंठों पर अंगूठा फिराया और होंठ पर होंठ रखकर उन्हें पीना शुरू किया।

अब चूंकि हम किस में मशगूल थे तो अपना हाथ चहरे से हटाकर मैं उसकी कमर पर ले गया और धीरे से कमीज को ऊपर की ओर खिसकाने लगा।

कभी बाएं से तो कभी दायें से, कभी पेट के ऊपर से तो कभी पीठ पर हाथ ले जाकर ऊपर की ओर खिसकाने की कोशिश की।
कुछ समय के लिए हम किस करना छोड़ नार्मल हुए।

वो अपना शर्ट, जो अस्त-व्यस्त था, ठीक करने को हुई कि मैंने उसकी बाजू पकड़ ली। अब चूंकि उसकी बाजू हाफ स्लीव थी तो वहीं से पकड़ कर मैं उसकी बाजू से ऊपर करता हुए उसका कमीज निकालने लगा.

मगर उसका कमीज थोड़ा सा टाइट था स्तनों के पास से … तो दोनों हाथ मैंने साइड से सूट के अंदर किये और ऊपर को करने लगा।
इतने में उसकी ब्रा पर हाथ पहुँच गया.

चूंकि मेरे हाथ पहले से ही उसके शर्ट के अंदर थे तो उन्हें मैंने सामने की ओर लेकर उसके स्तन ब्रा समेत अपने दोनों हाथों में भर लिए।
दोनों स्तनों को हाथों में भरकर ब्रा के ऊपर से ही मैं उनको दबाने लगा.

मैंने ज्यादा देर नहीं की और तभी दो उंगलियां उसकी ब्रा की इलास्टिक के नीचे की ओर से लेकर सूट के साथ ऊपर कर दिया।
अब क्योंकि उसकी ब्रा और शर्ट दोनों स्तनों से ऊपर हो चुके थे तो उसे अलग कर मैंने साइड में रख दिया।

उसने हैरानी भरे भाव और निगाहों से अपने आधे नग्न जिस्म को देखा और सवालियों निगाहों से मेरी ओर देखकर जैसे पूछ रही हो- क्यों?
कहा उसने कुछ नहीं लेकिन सिर्फ दो-तीन मुक्के मेरी छाती में मार दिए।
मैंने भी हल्की मुस्कराहट के साथ उसे बांहों में भर लिया और सिर पर चूम लिया।

कुछ पल ऐसे ही रहने के उपरांत उसके दोनों स्तन मैंने अपने हाथों में भर लिए और सहलाने लगा. कभी उन्हें जोर से भींच देता था जिससे उसे दर्द उठता … तो कभी उसके निप्पल को दो उंगलियों के बीच में रखकर उसे हल्का सा दबा देता जिससे वो मचल उठती ‘आ अ अहह!’

मेरे होंठ उसकी गर्दन को चूम रहे थे जिसमें मैं कभी कभी हल्के दांत भी गड़ा देता जिससे फिर वो अपने नाखून मेरी पीठ पर गड़ाकर बदला भी ले लेती।

हम दोनों मस्ती में भरे डूबे हुए थे कि मैंने थोड़ा झुककर घुटने ज़मीन पर रखे और अपना मुँह स्तनों के ऊपर ले आया और दाएं स्तन को मुँह से चाटने और चूसने लगा।
एक हाथ से मैं उसके स्तन को दबा रहा था और एक स्तन को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा।

वो अपने हाथ मेरे सिर पर रख मेरा चेहरा अपनी छाती में दबाने लगी जिससे मैं और जोर से उसके स्तनों को पीने लगा; कभी एक स्तन को तो कभी दूसरे को।

बीच में उसके निप्पल को दांत के बीच में लेकर हल्का सा काट भी लेता था मैं जिससे उसे दर्द भी होता था।
उसके स्तनों से थोड़ा नीचे आकर मैं उसकी नाभि में जीभ अंदर-बाहर करने लगा।

मेरी गर्म सांसें जब उसकी नाभि में पड़ीं तो उसकी उंगलियां मेरे बालों में पड़कर सिर पर दबाव बनाने लगीं।
उससे रहा नहीं गया और वो मेरा सर ऊपर को उठाकर नीचे को झुक मेरी जांघों पर दोनों ओर पैर फैलाकर बैठते हुए मेरे होंठों पर होंठों को रखकर किस करने लगी।

इतने पर ही न रूककर उसने मेरे हाथ पकड़े, जो उसकी पीठ पर थे, उन्हें ऊपर करते हुए मेरी शर्ट उतार दी और दबाव बनाते हुए मुझे नीचे जमीन पर लेटा दिया।
वो मेरे ऊपर बैठी थी और मेरे हाथ उसकी गिरफ्त में थे.

वो नीचे झुककर, होंठों के पास आकर अपने होंठों से मेरे होंठों को एक-एक कर छूने लगी। अभी इस मस्ती में मैं डूबा ही था कि उसने नाक पर जाकर काट लिया और ‘आई ई ई ई …’ की मेरी आवाज निकल गयी।

मैंने हड़बड़ा कर हाथ छुड़ाने के लिए जोर लगाया लेकिन उसने पूरा जोर लगाकर मुझे नीचे लेटाये रखा।
एक हाथ से मेरे हाथों को थाम लिया और एक हाथ मेरे होंठों पर रखकर चुप रहने का इशारा किया।

वह मेरी गर्दन पर जाकर अपने कोमल होंठों से किस करने लगी। मेरे तो जैसे शरीर में सिहरन सी दौड़ पड़ी।
उसके मुलायम स्तन मेरी छाती को छू रहे थे या ये कहें कि उसमें गड़े जा रहे थे जिसके अहसास से काम वासना अपने चरम पर जाने को उतावली हो रही थी।

मेरी छाती पर आकर वह मेरे निप्पलों के साथ खेलने लगी उन्हें चूसने लगी तो कभी जीभ से चाटने लगी।
इसी घड़ी में उसने एक बार फिर मेरे निप्पलों पर काट लिया जिससे उठे दर्द से मेरी आह हह … उह … उफ्फ करके एक दर्द भरी कराहट निकली।

अपनी जीत की खुशी मनाते हुए या कहें कि बदला लेने के बाद वो मेरी छाती पर दोनों हाथ रखकर बैठ गयी। उसका चेहरा ठीक मेरे चेहरे के ऊपर ही था.

उसके बाल सिर के एक तरफ से नीचे को झूल रहे थे.
उसने मेरी तरफ देखा और कहा- अब पता लगा वहां कितना दर्द होता है? कि जब मन में आया काट लिया?

अपनी हार पर हंसते हुए मैंने झट से उसके हाथ पकड़े ओर उसे अपने ऊपर गिरा लिया जिससे हमारे होंठ फिर एक दूसरे के लिए तैयार थे।
मैं अपने हाथ उसकी पीठ पर रखकर सहलाने लगा और सहलाते सहलाते उसकी सलवार के ऊपर से उसकी गांड तक ले जाकर उसे सहलाने लगा।

इसी क्रम में मैं अपने हाथ उसके पेट पर ले गया जहां उसकी सलवार की डोरी थी.
मैंने वो डोरी खोल दी और ऊपर ले जाकर मैं अब उसके स्तनों को दबाने लगा।

अब मैं मेरे हाथ उसके जिस्म पर सहलाता हुआ पीठ पर से सलवार के अंदर गांड तक ले गया और वहां सहलाने-दबाने लगा.
उसकी पैंटी के ऊपर से ही मैं गांड की दरार पर हाथ से दबाव डालकर सहलाने लगा.

इस बिंदु पर सहलाने से उसने मद भरी सिसकारी हम्म … म्म … की आवाज के साथ निकाली और अपने जिस्म को मेरे ऊपर निढाल छोड़ दिया.
इसी के साथ वो मेरे चेहरे के समक्ष बांहें डालकर गाल से गाल सटाकर लेट गई।

पाठकों से अनुरोध है कि कॉलेज की सेक्सी गर्लफ्रेंड की कहानी के विषय में अपनी राय-विचार व प्रतिक्रिया अवश्य दें. उम्मीद है कि पिछली कहानी की तरह इस कहानी को भी आप लोगों को भरपूर प्यार मिलेगा।
मेरा ईमेल आईडी है [email protected]

कॉलेज की सेक्सी गर्लफ्रेंड की कहानी का अगला भाग: गर्लफ्रेंड की चुदाई की अधूरी तमन्ना- 3

Source:

নতুন ভিডিও গল্প!


Tags: , , , , ,

Comments