Family Incest Sex Kahani – छोटी मामी की मदमस्त चुदाई

April 7, 2021 | By admin | Filed in: Hindi Stories.
फॅमिली इन्सेस्ट सेक्स कहानी मेरी मामी की है. वो मुझे बहुत सेक्सी लगती थी. मैं उनकी चुदाई का सपना बहुत दिनों से देख रहा था. एक रात वो सपना सच हो गया. कैसे?

दोस्तो, आपको मेरा प्यार भरा नमस्कर। मेरा नाम अरिंदम है और मैं ओडिशा से हूं। मैं एक मध्यवित्त परिवार से हूं। अभी मेरी उम्र 23 की है।
मैं जिम में अक्सर जाता रहता हूं ताकि मेरी बॉडी अच्छे से मेंटेन रहे।

आपका ज्यादा समय न लेते हुए मैं कहानी शुरू करना चाहूंगा. मगर उससे पहले आपसे निवेदन करता हूं कि फॅमिली इन्सेस्ट सेक्स कहानी लिखते समय यदि मुझसे कुछ गलती हो जाये तो मुझे माफ कर देना.

ये मेरी पहली कहानी है और चूंकि मैं ओडिशा राज्य का रहने वाला हूं तो शुरू से ही हिंदी भाषा में मेरा हाथ थोड़ा सा तंग है. इसलिए आप गलतियों को नजरअंदाज कर देना.

दोस्तो, मेरी मां के तीन भाई हैं यानि कि मेरे तीन मामा हैं. दो मामा तो साथ ही रहते हैं और अपना कारोबार करते हैं जबकि तीसरे मामा बैंक में मैनेजर हैं. वो अपने परिवार के साथ बाहर रहते हैं.

मेरे दूसरे मामा यानि कि सबसे बड़े मामा से दूसरे नम्बर के मामा अक्सर हमारे घर आते जाते रहते थे.
उनकी पत्नी यानि कि मेरी मामी दीपाली (बदला हुआ नाम) बहुत ही कामुक बदन वाली औरत है.
मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि मामी को कोई देख ले तो मुठ मारे बिना न रह पाये.

उनकी एक बेटी भी है जो कि 6 साल की है. मगर मामी को देखकर बिल्कुल भी अंदाजा नहीं लगाया जा सकता था कि वो एक 6 साल की बेटी की मां भी है.
मामी ने अपनी जवानी को बहुत संभाल कर रखा हुआ था.

अब मैं आपको उनका शारीरिक परिचय दे देता हूं. उनकी उम्र 32 की है और फिगर 36-30-40 का है. रंग बिल्कुल दूध जैसा सफेद जिसे कोई भी देखे तो लट्टू हो जाये.
उनके बदन का जितना भी हिस्सा बाहर दिखता था वो ऐसे लगता था जैसे कि मलाई हो.

मैं कई बार मामी के नाम की मुठ मारा करता था. जब भी वो हमारे घर पर आते थे तो मैं उनको सोचकर मुठ जरूर मारता था.
धीरे धीरे मेरे मन में मामी को चोदने की इच्छा बढ़ती ही जा रही थी.

ये बात पिछले दिसंबर की ही है। मेरे छोटे भाई का व्रत अनुष्ठान था जिसके लिए मेरे दोनों मामा भी आये हुए थे. उनको फिर रायपुर जाना पड़ा तो वो दोनों चले गये. बड़ी मामी और छोटी मामी घर पर ही थे.

मेरी बड़ी मामी ने मेरी दीदी और मम्मी को उनके कमरे में बुला लिया। उस कमरे में मेरी बड़ी मामी, मम्मी, दीदी और मामी की बेटी सो रहे थे।
अब बचे मैं और मेरे भैया तो मेरे दादा ने हम दोनों को उनके पास सोने के लिए बुलाया.

हम दोनों ने हामी भर दी। तभी मेरी दूसरी मामी आयी और बोली कि तुम दोनों में से कोई एक हमारे कमरे में चले आओ, जगह तो खाली है ही और आराम से सो भी सकोगे। इसी बात पर मेरे भैया ने मुझे कमरे में सोने के लिए भेज दिया।

मैंने भी हामी भरी और मन ही मन खुश हो गया।
मैं तो यही चाहता था कि मामी के साथ किसी न किसी तरह टाइम बिताने का मौका मिले और मैं उनके बदन को देखकर मुठ मारूं.

छोटी मामी के साथ मैं उनके यहां जाकर सो गया. रूम में डबलबेड था जिसके बीच में उनकी बेटी सोयी हुई थी. उसके दूसरी तरफ मामी जाकर लेट गयी और इस किनारे पर मैं लेट गया.

अब मैं एक तरफ था, उनकी बेटी बीच में और मामी बेड के दूसरी तरफ थी.
मैं लेटा हुआ था लेकिन मेरा ध्यान मामी की ओर लगा हुआ था. पहली बार मामी के साथ सोने का मौका मिला था.

मेरी कामवासना धीरे धीरे बढ़ती ही जा रहा थी. लंड मामी की चूचियों को और गांड को सोचकर ही पहले से ही तना हुआ था. मैं धीरे धीरे चादर के अंदर अपने लंड को सहला रहा था.

फिर मेरा लंड बहुत ज्यादा टाइट हो गया और मैंने धीरे धीरे मुठ मारने का सोचा. मैंने अपनी टांगों को थोड़ा ऊपर कर लिया ताकि टांगों के बीच में मेरा हाथ लंड पर चलते हुए मामी को दिखाई न दे.

मैं धीरे धीरे मुठ मारने लगा.
मैंने देखा कि मामी अभी सोई नहीं थी. इसलिए मैंने सोचा कि बाथरूम में जाकर ही मुठ मार लेता हूं.
मैं उठा और फिर बाथरूम में चला गया.

जब मैं मुठ मारकर वापस आया तो देखा कि मामी अपनी साड़ी उतार रही थी.
मामी घर में अक्सर कुर्ता और पजामा ही पहनती थी लेकिन घर में मेहमानों की वजह से उन्होंने साड़ी पहनी थी।
उसी कारण से मामी अच्छे से सो नहीं पा रही थी.

मुझे देखकर उसने मुंह फेर लिया और बोली- तुम सो जाओ. मैं कपड़े बदल रही हूं.
मैं फिर चुपचाप आकर लेट गया.

फिर मैंने धीरे से चादर में से झांक कर देखा कि मामी अपनी साड़ी खोलने लगी.

बीच बीच में वो मेरी तरफ भी देख लेती थी तो मैं चादर को नीचे कर देता था. मैंने देखा कि मामी ने अपनी साड़ी, ब्लाउज और पेटीकोट उतार दिया. उसने काले रंग की पैंटी और ब्रा का सेट पहना हुआ था.

मामी की गांड में वो पैंटी पूरी फंसी हुई थी और उनकी भारी गांड में दरार के अंदर वो जैसे कहीं गायब हो गयी थी.
मैं तो उनकी गांड को देखता रह गया.

उसने साड़ी एक तरफ रखी और दरवाजा अंदर से बंद कर दिया. फिर वो चुपचाप आकर ब्रा पैंटी में ही लेट गयी.

मैं तो सोचकर ही पागल हुआ जा रहा था कि आज रात को मामी की चूचियों और चूत के खूब दर्शन करूंगा. मैं मामी के सोने का इंतजार करने लगा.

मैंने लगभग दो घंटे तक उनके सोने का इंतजार किया.
जब मुझे लगा कि मामी गहरी नींद में है तो मैंने उनके पास जाने का सोचा.
मैं धीरे से उठकर मामी के पास चला गया.

मामी आंखें बंद करके लेटी हुई थी और शायद नींद में ही थी. उनकी चूचियों पर काले रंग की जालीदार ब्रा थी. उसमें उनकी चूचियां बहुत ही ज्यादा गोरी और रसीली लग रही थीं.

उनकी जांघों में उनकी चूत पर जो पैंटी थी वो तो और भी ज्यादा कहर ढहा रही थी. मामी की चिकनी जांघों पर वो पैंटी बहुत ही सेक्सी लग रही थी.
ऐसी पैंटी में कई बार पोर्न फिल्मों की हिरोइनों को मैंने देखा था।

पास जाकर मैंने धीरे धीरे अपना हाथ आगे बढ़ाया और उनकी चूचियों को छूने की कोशिश की. मैंने धीरे से मामी की चूचियों को छुआ तो मेरे बदन में करंट दौड़ गया.
ब्रा में कैद मामी की चूची एकदम से कसी हुई मालूम हो रही थीं.

उनकी पैंटी में उनकी चूत के दो होंठ भी साफ मालूम पड़ रहे थे. इतना कामुक नजारा मैंने इससे पहले कभी नहीं देखा था.
झट से मेरे लंड में सौ फीसदी तनाव आ गया और वो एकदम से फड़फड़ाने लगा।

धीरे धीरे मैंने उनके बदन पर हाथ फिराना चालू किया. कमर से होते हुए मैं उनकी चूचियों पर ऊपर से ही हाथ फिरा रहा था।
मामी ने बहुत ही मस्त और एक हार्ड मैटीरियल की ब्रा पहनी हुई थी. उनका गदराया हुआ बदन और भी मदहोश कर रहा था।

फिर मैंने धीरे धीरे उनकी बाईं चूची को हल्का हल्का दबाना शुरू कर दिया.
ऐसा करने से मजा तो आ रहा था लेकिन डर भी लग रहा था।

अब हवस मेरे ऊपर हावी हो चुकी थी. मैं आगे बढ़ रहा था और मुझे अहसास नहीं था कि मेरे हाथों का जोर कितना उनकी चूची पर पड़ रहा है.

मैं बस उनके चूचों को मसल देना चाह रहा था. इसी के चलते मैंने थोड़ा जोश में आकर उनके मांसल स्तन को कुछ ज्यादा ही दबा दिया जिसके कारण शायद वो जाग गई.
वो कसमसायी और मैं एकदम से पीछे हट गया.

फिर मामी ने मेरी तरफ पीठ की और फिर से सो गई. मैं फिर से उनकी चूचियों को छेड़ने लगा.
अब मेरे हाथ फिर से उनकी चूचियों को जोर जोर से दबाने लगे. मुझे लगा कि शायद मामी पूरी नींद में नहीं है.

कुछ देर तक जब मैं दबाता ही रहा तो तब भी वो नहीं जागी. मगर मामी की कसमसाहटें अब बाहर आने लगी थीं. शायद वो चूची दबवाने का मजा ले रही थी.
उनकी आहों को सुनकर मेरी हिम्मत बढ़ने लगी थी क्योंकि मामी गर्म हो रही थी और मैं यही चाहता था.

धीरे धीरे उनकी चूचियों को मेरे हाथ मसलते रहे और देखते ही देखते मामी की सिसकारियां निकलने लगीं.

मेरी वासना की आग भी पहले से ही भड़की हुई थी. मामी के मखमली बदन पर चलते हुए मेरे हाथ उनके मस्त बदन का माप लेने लगे.
कभी मेरे हाथ उनकी गांड पर सहला रहे थे तो कभी उनकी चूत पर सहला रहे थे.

उसके दो मिनट बाद वो मेरी तरफ मुंह करके लेट गयी.
मामी ने अपनी आंखें खोल दीं. उनकी आंखों में एक प्यास थी.
ये देखकर मेरे अंदर का बचा हुआ डर भी चला गया.

अब मैं मामी को चोद देना चाह रहा था. वो मेरी तरफ देख कर मुस्करा रही थी.
मेरे मन में लड्डू फूट रहे थे. मैं भी मुस्कराया और मामी ने अपने हाथ बढ़ाकर मुझे अपने ऊपर खींच लिया.

मैंने भी मामी के मखमली होंठों पर अपने होंठों को रखा और उनका रस पीने लगा.

मगर अभी भी मेरे मन में एक सवाल बार बार आ रहा था कि मामी मेरे साथ ये सब करने के लिए राजी कैसे हो गयी.
खैर, मैंने इस बात पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया क्योंकि अभी तो मुझे आम खाने से मतलब था, गुठलियां गिनने से नहीं.

मैंने मामी के होंठों का रस पीना जारी रखा और वो भी मेरा साथ देती रही.
उसका हाथ मेरी लोअर पर आ चुका था और वो मेरे लंड को बार बार दबा रही थी.
मुझे मामी की चुदाई का अब खुला आमंत्रण मिल रहा था.

अब मेरे होंठ उनके बदन के हर हिस्से को चूम रहे थे. कभी होंठों पर तो कभी गालों पर, कभी उनकी चूचियों पर तो कभी गर्दन पर।
वो भी अपने हाथों से मेरी पीठ को सहला कर मेरा हौसला बढ़ा रही थी.

पास में उनकी 6 साल की बेटी सो रही थी.
मामी ने उसकी तरफ देखा कि कहीं वो नींद से न जाग जाये.

फिर मामी ने मेरे कान में धीरे से कहा- पहले अपने कपड़े उतार लो।

मैं बाथरूम में गया और जल्दी से अपने कपड़े वहां पर टांग कर आ गया. मैं केवल अंडरवियर में था.
जब तक मैं वापस आया तो मामी मेरी साइड में आ गयी थी.

अब हमने उनकी बेटी को एक तरफ कर दिया था. मामी बीच में आ गयी थी और अपनी बेटी की तरफ गांड करके लेट गयी थी.
बेड के अंतिम छोर पर मैं था. हम दोनों फिर से एक साथ लेटकर एक दूसरे के होंठों को किस करने लगे.

मामी पैंटी में थी और मैं अंडरवियर में था. मेरा लंड मामी की पैंटी पर बार बार रगड़ रहा था. मामी भी अपनी चूत को बार बार मेरे अंडरवियर पर सटा रही थी।

लगभग दस मिनट तक हम दोनों चूमा चाटी करते रहे. फिर मैं मामी के ऊपर चढ़ गया और उनको मदहोश करने में लग गया।
मामी होले होले सिसकारियां भरे जा रही थी- अह्ह … हूंह … हम्म … आह!

मैंने उनकी बेटी की तरफ ध्यान दिया और एक बड़ा कम्बल लेकर आया और अपने और मामी के ऊपर ढक दिया ताकि अगर उनकी बेटी उठ जाए तो उसको कुछ पता न चल सके।

अब मैं फिर से लगातार मामी को बेतहाशा चूमे जा रहा था. मैंने अपना हाथ उनकी पीठ पर लिया और उनकी ब्रा का हुक खोल दिया और उनके मम्में मेरे सामने खुल गए.

उन कबूतरों को मैं देख कर पागल सा हो गया. दूध से सफ़ेद मम्में थे. मैं उन भूरे निप्पलों को पकड़ कर उनसे खेलने लगा।

मामी मदहोशी में वासना भरी आवाजें किये जा रही थी।
मैं उनकी आवाज से और उत्तेजित होता जा रहा था।

मैंने दोनों चूचों को अपने हाथों में भरा और एक साथ दबाने लगा. मामी के चेहरे पर हल्के दर्द भरे भाव आने लगे.
मुझे ये देखकर और मजा आने लगा और मैं अधिक जोर से उसकी चूचियों को भींचने लगा.

कुछ ही देर में मैंने चूस चूस कर मामी की चूचियों को लाल कर दिया.
उसकी चूचियां एकदम से तनकर टाइट हो गयी थीं. ऐसा लग रहा था जैसे पहाड़ की दो चोटियां साथ खड़ी खड़ी हैं.

मैं मामी के बदन का रसपान करते करते उनके पेट से होते हुए उनकी नाभि तक पहुंच गया. मैं नाभि में जीभ फिराने लगा.
वो थोड़ी मचलने लगी. मेरे बालों में हाथ फिराने लगी. वो पूरी गर्म हो चुकी थी।
मेरा जोश भी बहुत ज्यादा बढ़ता जा रहा था।

मैं किस करता हुआ नीचे जा रहा था.
नीचे उनकी चूत पर उनकी जालीदार पैंटी थी. पैंटी भी काले रंग की ही थी।

मैं उस पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत पर जीभ फिराने लगा.
उनकी चूत से बहुत ही मनमोहक खुशबू आ रही थी।

धीरे से मैंने मामी की कमर को ऊपर किया और उनकी पैंटी नीचे सरका दी.
मेरे सामने उनकी गोरी चिकनी चूत आ गई।
मामी की गोरी चिकनी चूत को देखकर मेरे होश खोने लगे. इतनी सेक्सी चूत थी उनकी. मैं तो यकीन ही नहीं कर पा रहा था.

मैंने जी भरकर मामी की चूत के दर्शन किये. उसके होंठों को खींच कर और बार बार खोलकर देखा. चूत बहुत ही रसीली थी. फिर मुझसे रुका न गया और मैंने जीभ निकाल कर मामी की चूत को चाटना शुरू कर दिया.

मामी जोर जोर से सिसकारने लगी. मैं तो जैसे स्वर्ग की सैर पर निकल गया था.
मैं मामी की चूत के ऊपर मस्ती में जीभ फिराने लगा.
वो भी मदहोश होने लगी; मेरे मुंह को चूत में दबाने लगी.

मेरी जीभ मामी की चूत के अंदर तक जाकर उनकी चूत के रस को बाहर खींच कर ला रही थी और मैं उस रस को पी जाता था.
उनकी चूत के रस में एक अलग ही नशा था.

मैंने अपनी गर्लफ्रेंड की चूत को बहुत बार चाटा था लेकिन मामी की चूत का स्वाद कुछ निराला ही था. मैं तो मामी की चूत को पाकर पागल ही होता जा रहा था।

मामी मेरे बालों में हाथ फेरते हुए अपनी मदमस्त जवानी का रसापन बड़ी ही खुशी सहित करवा रही थी।

दोस्तो, अगर अपनी महिला सेक्स पार्टनर को खुश करना हो तो उसकी चूत जरूर चाटो.
महिलाओं का चूत चटवाना उन्हें बहुत उत्तेजित करता है और वो पूरी तरह से संतुष्टि का अनुभव करती हैं।

मैंने मामी को भरपूर आनंद दिया और उनको झड़ने पर मजबूर कर दिया. वो जोर जोर से मेरे मुंह पर चूत को रगड़ने लगी और फिर वो मेरे मुंह में ही झड़ गई.

उनकी जवानी का नमकीन रस उनकी चूत से निकल पड़ा और मैंने उस रस का पूरा आनंद लिया.
मैं तो जैसे अंदर तक तृप्त हो गया उनकी चूत का रस पीकर।

अब रस पिलाने की बारी मेरी थी.
मैंने धीरे से मामी के कान में कहा- मामी, अब मेरी बारी है।
वो मेरी बात को समझ गयी और झट से नीचे की ओर आकर मुझे नीचे लिटा लिया.

वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरी गर्दन से किस करते हुए छाती पर चूमते हुए वो नीचे मेरे अंडरवियर पर जा पहुंची.
उसने मेरे अंडरवियर को निकाल दिया और मेरे तड़पते लंड को अपने हाथ में भर लिया.

उसने मेरे 7 इंच लंबे और 3 इंच मोटे लंड को अपने हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दिया. वो उसकी चमड़ी को ऊपर नीचे करने लगी.

कुछ देर तक ऐसे ही ऊपर से नीचे हिलाते हुए मेरे लंड की लम्बाई और मोटाई का नाप लेती रही।

मैं भी उनके मम्में दबाये जा रहा था. उनके निप्पलों के साथ मस्ती कर रहा था।

जब मामी से रुका न गया तो उसने झुक कर मेरे लंड के टोपे पर होंठ रख दिये और उसको होंठों से चूसने लगी.

मेरी तो आह्ह निकल गयी. वो मस्ती में मेरे लंड के टोपे पर होंठों का कमाल दिखाने लगी.

मेरा लंड फटने को हो रहा था. जब मामी की जीभ मेरे लंड के टोपे पर आकर प्यार से सहलाती थी तो मैं स्वर्ग में पहुंच जाता था।

धीरे धीरे करके वो लंड को अंदर तक मुंह में भरने लगी. अब वो तेजी से मुंह चलाते हुए पूरे लंड को चूसने लगी.

मेरे लंड को वो अपने गले तक लेकर जा रही थी। मैं भी हैरान था कि मामी मेरे लंड को पूरा का पूरा जड़ तक चूस रही थी।

करीब 7-8 मिनट की चुसाई के बाद मुझसे रहा न गया; मैंने मामी के सिर को पकड़ा और जोर जोर से लंड के धक्के देने लगा.

4-5 धक्कों के बाद मेरा माल उनके मुंह में गिरने लगा.
वो मेरे वीर्य को अंदर ही पी गयी.

उसके बाद हम दोनों ही शांत होकर लेट गये.
करीब दस मिनट तक हम दोनों लेटे रहे.

धीरे धीरे फिर से हम एक दूसरे के जिस्म को सहलाने लगे.

एक बार फिर से मामी ने मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया और लंड को चूस चूस कर खड़ा कर दिया.

अब चुदाई की बारी थी और हम दोनों एक दूसरे के जिस्म में डूब जाना चाहते थे.

मैंने मामी को नीचे लिटाया और उनके पैरों को खोल दिया. उनके नंगे जिस्म के सबसे खूबसूरत अंग उनकी चूत के ऊपर मैं अपना लन्ड घिसने लगा.
मामी तड़प उठी थी.

उन्होंने मेरे लन्ड को जोर से पकड़ा और उनकी चूत के मुंह के सामने रख दिया और कहा- प्यारे भांजे … अपनी मामी की आग और मत भड़काओ … अपने इस गर्म हथियार को मेरे बदन के अंदर डाल दो और अपनी मामी की प्यास बुझा दो।

मैंने मामी की बात पर हामी भरते हुए उनकी चूत में लन्ड को डाल दिया जिसकी वजह से उनकी हल्की सी चीख निकल गई.
मैंने उनके मुंह को एकदम से दबाया और उनके बदन के अंगों को बेतहाशा चूमने चाटने लगा.

अब मैंने जोर का धक्का देकर मामी की चूत में लंड को पूरा उतार दिया और वो जैसे दर्द में दोहरी हो गयी लेकिन फिर भी दर्द को बर्दाश्त कर गयी.

फिर मैंने चुदाई शुरू कर दी।
अब मैं उनके हर अंग को बेतहाशा चूमता, चाटता और निप्पलों को काटता जा रहा था.

मामी भी आहें भरती जा रही थी- हाह … ऐसे ही … जोर से और तेज़ … चोदते रहो … आह्ह … आहा … करते रहो।
मैं उनके होंठों का रस पीते पीते चोदता जा रहा था।

करीब 15 मिनट की होले होले चुदाई के बाद मैं झड़ने ही वाला था, तभी मैंने मामी से पूछा- मेरी जान … दूसरी बार मेरे रस को कहां पर गिरवाओगी?

उन्होंने हवस भरी मुस्कान के साथ कहा- अपनी जान की चूत में ही निकाल दो।
उनका जवाब पाकर मुझे भी और ज्यादा जोश आ गया. मैंने फिर से मामी की चूत की ताबड़तोड़ चुदाई शुरू कर दी।

मैंने जोर जोर से 10-12 धक्के लगाये और उनके ऊपर लेट गया और लेटते ही मेरे लंड से कई पिचकारी छूटी और सारा माल मैंने मामी की चूत में ही भर दिया.

वीर्य निकलने के साथ ही मेरा जोश एकदम से कम होता चला गया और मैं निढाल होकर मामी के ऊपर ही पड़ गया.
चुदाई के बाद दोनों के बदन पसीना पसीना हो गये थे।

कुछ देर के बाद मैं उनके ऊपर से उठा और दोनों ही एक साथ बाथरूम में गये. हमने एक दूसरे को साफ किया. फिर वापस आकर हमने कपड़े पहने पहने और फिर अलग अलग होकर सो गये.

सुबह मैं जल्दी उठ गया और मैंने मामी को जगाकर बहुत देर तक उनके होंठों को पीया और फिर वहां से चला गया.
मामी की चूत चोदकर बहुत मजा आया. मैं खुश था कि मेरा इतना पुराना सपना आज पूरा हो गया था.

तो दोस्तो, ये थी मेरी मामी की चुदाई की कहानी जो एकदम सच्ची थी। मैं उम्मीद करता हूं कि आपको ये फॅमिली इन्सेस्ट सेक्स कहानी पसंद आई होगी. मुझे बताना. यदि कोई कमी रह गयी हो तो वो भी कमेंट्स में लिखना.
मेरा ईमेल आईडी है [email protected]

Source:

নতুন ভিডিও গল্প!


Tags: , , , ,

Comments